स्वामी विवेकानंद:

स्वामी विवेकानन्दजी का जन्म और उनका जीवन, जब वे सिकागो गए क्या हुआ ,मृत्यु कब और कैसे हुई? 

 

स्वामी विवेकानंद का जन्म:

स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी 1863 को हुआ था।

 

स्वामी विवेकानंद का जीवन:

स्वामी विवेकानन्द जी का उनका घरेलू नाम नरेन्द्र दत्त था। उनके पिता विश्वनाथ दत्त पश्चिमी सभ्यता में विश्वास रखते थे। वे अपने पुत्र नरेन्द्र को भी अंग्रेजी पढ़ाकर पश्चिमी सभ्यता की तर्ज पर चलाना चाहते थे। नरेंद्र की बुद्धि बचपन से ही बहुत तीव्र थी और ईश्वर को पाने की लालसा भी प्रबल थी। इसके लिए वे सबसे पहले ब्रह्म समाज गये लेकिन वहां उनका मन संतुष्ट नहीं हुआ।

1884 में विश्वनाथ दत्त की मृत्यु हो गई। घर का बोझ नरेंद्र पर आ गया। घर की हालत बहुत ख़राब थी. कुशल का कहना था कि नरेंद्र की शादी नहीं हुई थी। अत्यंत गरीबी में भी नरेन्द्र एक महान अतिथि सेवक थे। स्वयं भूखा रहकर अतिथि को भोजन कराता था, स्वयं रात भर बाहर बारिश में भीगता हुआ पड़ा रहता था और अतिथि को अपने बिस्तर पर सुलाता था।

रामकृष्ण परमहंस की प्रशंसा सुनकर नरेंद्र पहले तो बहस करने के विचार से उनके पास गए, लेकिन परमहंस जी को देखते ही पहचान गए कि यह वही शिष्य है जिसका वे कई दिनों से इंतजार कर रहे थे। परमहंस जी की कृपा से उन्हें आत्म-साक्षात्कार हुआ, फलस्वरूप नरेन्द्र परमहंस जी के शिष्यों में प्रमुख हो गये। सेवानिवृत्ति के बाद उनका नाम विवेकानन्द हो गया।

स्वामी विवेकानन्द ने अपना जीवन अपने गुरुदेव स्वामी रामकृष्ण परमहंस को समर्पित कर दिया था। गुरुदेव की मृत्यु के दिनों में वे अपने घर-परिवार की नाजुक स्थिति की परवाह किये बिना, अपने भोजन की परवाह किये बिना निरन्तर गुरु सेवा में उपस्थित रहे। गुरुदेव का शरीर अत्यंत रुग्ण हो गया था। कैंसर के कारण गले से बलगम, खून, कफ आदि निकलता था। वह इन सभी को बहुत सावधानी से साफ करता था।

एक बार किसी ने गुरुदेव की सेवा में घृणा और लापरवाही दिखाई और घृणा से भौंहें सिकोड़ लीं। यह देखकर विवेकानन्द क्रोधित हो गये। उन्होंने उस गुरुभाई को सबक सिखाते हुए और गुरुदेव की हर चीज़ के प्रति अपना प्यार दिखाते हुए उनके बिस्तर के पास से खून, कफ आदि से भरी थूकदानी उठाई और पी गए।

गुरु के प्रति ऐसी अनन्य भक्ति और निष्ठा के प्रताप से ही वह अपने गुरु के शरीर और उनके दिव्य आदर्शों की सर्वोत्तम सेवा कर सका। वह गुरुदेव को समझ सकता था, वह अपने अस्तित्व को गुरुदेव के स्वरूप में विलीन कर सकता था। भारत के अमूल्य आध्यात्मिक खजाने की सुगंध पूरे विश्व में फैले। उनके इस महान व्यक्तित्व की नींव ऐसी गुरुभक्ति, गुरुसेवा और गुरु के प्रति अनन्य निष्ठा थी।

 

Swami Vivekananda

स्वामी विवेकानंदजी जब शिकागो गए तब? 

25 वर्ष की आयु में नरेन्द्र दत्त ने भगवा वस्त्र धारण किये। इसके बाद उन्होंने पूरे भारत की पैदल यात्रा की। 1893 में शिकागो (अमेरिका) में विश्व धर्म परिषद् का आयोजन हो रहा था। स्वामी विवेकानन्द जी भारत के प्रतिनिधि के रूप में वहाँ पहुँचे। उस समय यूरोप और अमेरिका के लोग पराधीन भारतीयों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे। वहां लोगों ने बहुत प्रयास किया कि स्वामी विवेकानन्द को सर्वधर्म परिषद में बोलने का समय न मिले। एक अमेरिकी प्रोफेसर के प्रयास से उन्हें कुछ समय तो मिल गया, लेकिन उनके विचार सुनकर सभी विद्वान आश्चर्यचकित रह गये।

तब अमेरिका में उनका खूब स्वागत हुआ. उनके भक्तों का एक बड़ा समुदाय था। वे तीन वर्ष तक अमेरिका में रहे और वहां के लोगों को भारतीय दर्शन की अद्भुत रोशनी प्रदान करते रहे।

‘अध्यात्मवाद और भारतीय दर्शन के बिना विश्व अनाथ हो जाएगा’, यह स्वामी विवेकानन्द का दृढ़ विश्वास था। उन्होंने अमेरिका में रामकृष्ण मिशन की कई शाखाएँ स्थापित कीं। अनेक अमेरिकी विद्वानों ने उनका शिष्यत्व स्वीकार किया। वे हमेशा खुद को गरीबों का सेवक कहकर संबोधित करते हैं। उन्होंने सदैव देश-विदेश में भारत का गौरव रोशन करने का प्रयास किया।

स्वामी विवेकानंद की मृत्यु कब और कैसे हुई?

स्वामी विवेकानन्द को 31 से अधिक बीमारियाँ थीं, जिनमें से एक उनकी नींद की बीमारी भी थी। अपने जीवन के अंतिम दिन स्वामी विवेकानन्द ने अपने शिष्यों के बीच शुक्ल-यजुर्वेद की व्याख्या की और कहा कि ”इस विवेकानन्द ने अब तक क्या किया है, यह समझने के लिए हमें एक और विवेकानन्द की आवश्यकता है।” उनके शिष्यों के अनुसार, अपने जीवन के अंतिम दिन 4 जुलाई, 1902 को भी, उन्होंने अपनी ध्यान की दिनचर्या नहीं बदली और सुबह दो-तीन घंटे तक ध्यान किया और ध्यान में ही अपने ब्रह्मरंध्र को छेदकर महासमाधि ले ली। उनकी मौत का कारण तीसरी बार दिल का दौरा पड़ना था. बेलूर में गंगा के तट पर चंदन की चिता पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। गंगा के उस पार उनके गुरु रामकृष्ण परमहंस का सोलह वर्ष पूर्व दाह संस्कार हो चुका है। अपनी मृत्यु के समय विवेकानन्द 39 वर्ष के थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *